राजस्थानी भाषा अकादमी की ओर से डाॅ. तैस्सितोरी की 101 वीं पुण्यतिथि पर पुष्पांजलि अर्पित

 

बीकानेर, 22 नवम्बर। राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी की ओर से रविवार को पुरातत्त्ववेत्ता-बहुभाषाविद् डाॅ. एल. पी. तैस्सितोरी की 101 वीं पुण्यतिथि पर उनके समाधि-स्थल पर पुष्पांजलि अर्पित की गई व उनके कृतित्व से प्रेरणा लेकर राजस्थानी भाषा, साहित्य, संस्कृति के उन्नयन के लिए पूर्ण समर्पण भाव से कार्य करने का संकल्प लिया गया। इस अवसर पर कथाकार व अकादमी सचिव शरद केवलिया ने कहा कि डाॅ. तैस्सितोरी ने भारत व यूरोप के मध्य भाषिक, साहित्यिक व सांस्कृतिक सेतु के रूप में कार्य किया। उन्होंने इटली से भारत आकर भारतीय संस्कृति, भाषा-साहित्य, पुरातत्त्व की दिशा में अविस्मरणीय योगदान दिया। डाॅ. तैस्सितोरी ने केवल पच्चीस वर्ष की उम्र में पुरानी राजस्थानी, संस्कृत, प्राकृत अपभ्रंश, हिन्दी, मारवाड़ी, गुजराती, ब्रज, अंग्रेजी, लेटिन, ग्रीक आदि का भाषाओं का ज्ञान प्राप्त कर लिया था। उन्होंने सन् 1915 में बीकानेर आकर इस क्षेत्र का ऐतिहासिक सर्वेक्षण कर, बड़ी संख्या में प्रागैतिहासिककालीन सामग्री सहित सैकड़ों प्रतिमाओं, शिलालेखों, मुद्राओं की खोज करी व गांव-गांव जाकर दुर्लभ प्राचीन ग्रंथों-पांडुलिपियांे का संग्रह किया। उनका केवल 32 वर्ष की अल्पायु में ही निधन हो गया था। इस अवसर पर सहायक प्रोग्रामर अमन पुरी, कानसिंह, मनोज मोदी ने भी डाॅ. तैस्सितोरी की समाधि पर पुष्प अर्पित किए व मोमबत्तियां जलाईं।


 



Popular posts
उत्तर-पश्चिम रेलवे कर्मचारी संघ के मंडल अध्यक्ष बने सुनील शादी, अमर सिंह सिहाग मंत्री
Image
उत्तर-पश्चिम रेलवे कर्मचारी संघ का वार्षिक अधिवेशन में बोले अजय कुमार त्रिपाठी ; कर्मचारी हित के विरुद्ध कुछ भी बर्दाश्त नहीं
Image
पुरानी पेंशन स्कीम बहाल, टीटीई स्टाफ को रनिंग अलाऊंस की सुविधा देने सहित 18 सूत्री मांग को लेकर रेलकर्मियों का अधिवेशन 12 को
Image
फ्लोरल हॉस्पिटल में आयोजित ब्लड डोनेशन कैम्प में 101 यूनिट रक्तदान, उत्साहवर्धन करने पहुंचे मंत्री कल्ला सहित अनेक
Image
डूंगर काॅलेज में प्रख्यात शिक्षाविद् एवं रसायनज्ञ प्रो. रविन्द्र कुलश्रेष्ठ का सम्मान, पुस्तक आध्यात्मिक अंकुर नाम पुस्तक का भी वितरण
Image