नवरात्र के दूसरे दिन सरस्वती माता मंदिर में पं. देवेन्द्र सारस्वत के नेतृत्व में हुआ एक कुंडीय यज्ञ

 





CK NEWS, CHHOTIKASHI, BIKANER : नवरात्र पर्व के पावन पर्व पर पब्लिक पार्क स्थित सरस्वती माता मंदिर में विशेष श्रंगार के उपरांत यज्ञ एवं आरती का आयोजन किया गया। भवानी कौशिक ने बताया कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन करते हुए यज्ञाचार्य पं. देवेन्द्र सारस्वत के नेतृत्व में एक कुंडीय यज्ञ किया गया। यज्ञाचार्य पं. देवेन्द्र सारस्वत ने बताया कि नवरात्रि के द्वितीया तिथि को मां दुर्गा के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। ब्रह्म का अर्थ होता है तपस्या और चारिणी का अर्थ है आचरण करने वाली। ब्रह्मचारिणी का अर्थ है तप का आचरण करने वाली। मां के इस स्वरूप की पूजा करने से तप, त्याग, सदाचार, संयम आदि की वृद्धि होती है। यज्ञ में नवदुर्गा मंत्र, नवग्रह मंत्र, सरस्वती मंत्र, गायत्री मंत्र तथा महामृत्युंजय मंत्र से आहुतियां दिलाई गई। आहुतियों में विश्व कल्याण की कामना की गई। यज्ञ में इन्द्रा कंवर, शोभा सारस्वत, प्रकाश कंवर तथा विमला कंवर द्वारा आहुतियां दी गई।

Popular posts
श्री विश्वशांति एवं महालक्ष्मी कुबेर अनुष्ठान में लिये गये संकल्प का फल राष्ट्रपति से लेकर हर आम इंसान को मिलेगा : राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी महाराज
Image
15 हजार 119 व्यापारियों ने लिया वाणिज्यिक कर विभाग की एमनेस्टी स्कीम का लाभ, 42 करोड़ रुपये माफ : हरि सिंह चारण
Image
प्रयागराज-जयपुर एक्सटेंशन बीकानेर ट्रेन को जल्द चलाया जाए, पुरी ट्रेन के खाली रेक को भेजें हरिद्वार
Image
नवाचार के साथ संयुक्त शपथग्रहण समारोह, नारायण चोपड़ा ने श्रावक निष्ठा पत्र का सभी को वाचन करवाया
Image
अभिमंत्रित सिद्ध होने वाले 5 हजार कलश जिस घर में पहुंचेंगे वहां सम्पन्नता, ऐश्वर्य, सुख व समृद्धि का होगा वास
Image