बीकानेर में मशरुम इकाई स्थापित, किसानों को आसानी से उपलब्ध होंगे मशरुम के स्पॉन (बीज)




बीकानेर, 27 जनवरी (सीके मीडिया/छोटीकाशी)। राजस्थान में बीकानेर स्थित स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो आर पी सिंह ने बुधवार को कृषि महाविद्यालय के पादप व्याधि विज्ञान विभाग द्वारा स्थापित मशरूम उत्पादन इकाई का उद्घाटन किया। इस दौरान कुलपति ने कहा कि मशरूम की खेती किसानों की आय बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दे रही है तथा छोटे किसानों एवं गृहणियों के लिए उपयुक्त व्यवसाय साबित होने लगा है। इसमें पोषक तत्वों की अधिकता है, जो कि स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बेहद लाभदायक होती है। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय द्वारा मशरूम इकाई स्थापित किए जाने से किसानों को मशरूम के स्पॉन (बीज) भी आसानी से उपलब्ध हो सकेंगे। विद्यार्थियों और एन्तरप्रेन्योर्स के लिए भी यह लाभदायक साबित होंगी। साथ ही यहां नियमित प्रशिक्षण भी दिए जाएंगे। उन्होंने मशरूम उत्पादन कक्ष, मशरूम बीजाई व कम्पोस्ट इकाई का अवलोकन किया। इकाई प्रभारी डॉ दाताराम ने बताया कि इकाई में ढींगरी मशरूम की फ्लोरिडा, आयस्टर, पिंक आयस्टर और सजोरकाजू आयस्टर किस्मों के 160 बैग लगाए गए हैं। लगभग 25 दिन बाद इनमें उत्पादन शुरू हो जाएगा। ढींगरी मशरूम सुगंधित, मुलायम और पोषक तत्वों से भरपूर होता है। यह शाकाहारी लोगों के लिए उपयोगी है। इसकी सब्जी तथा पकोड़े आदि बनाए जाते हैं। यह मोटापा, मधुमेह, रक्तचाप तथा हृदय रोगियों के लिए लाभदायक होता है। इस दौरान कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ आई पी सिंह, विशेषाधिकारी इंजी विपिन लढ्ढा, डॉ अशोक मीणा, डॉ अर्जुन यादव सहित डीन-डायरेक्टर मौजूद रहे।

Popular posts
माल यातायात को बढावा देने के उद्देश्‍य से मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में बिजनेस डवलपमेंट यूनिट(बीडीयू) मीटिंग
Image
बीएसएफ के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. घनश्याम दास 31 वर्ष की सेवा के उपरांत सेवानिवृत्त, डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ ने दी शुभकामनाएं
Image
श्रीराम सुपर 111 और 1-एसआर-14 गेहूं बीज राजस्थान के किसानों को दे रहा है बेहतर उत्पादकता !
Image
कैमल इको टूरिज्म को बढ़ावा देने हेतु एनआरसीसी के महत्ती प्रयास, रोशनी युक्त सौन्दर्यकरण बेल आकृति लोकार्पित
Image
बीकानेर में दमखम दिखाने वाले चयनित पावर लिफ्टर खिलाड़ी राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में लेंगे हिस्सा!
Image