देश में 187.7 मिलियन मैट्रिक टन दूध उत्पादन के साथ राजस्थान दूसरे स्थान पर!


 


बीकानेर, 9 दिसम्बर (छोटीकाशी डॉट पेज)। राजस्थान में बीकानेर स्थित वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा निदेशालय द्वारा 'स्वच्छ दूध उत्पादन क्यों और कैसे? विषय पर बुधवार को राज्य स्तरीय ई-पशुपालक चौपाल का आयोजन किया गया। पशुपालक चौपाल को सम्बोधित करते हुए स्नातकोत्तर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, जयपुर की अधिष्ठाता और विषय विशेषज्ञ प्रो संजीता शर्मा ने कहा कि विश्व के दुग्ध उत्पादन में भारत गत 10 सालों से अग्रणी देश बना हुआ है। राजस्थान 187.7 मिलियन मैट्रिक टन दुग्ध उत्पादन के साथ देश में दूसरे स्थान पर है। देश में औसत 394 ग्राम प्रति व्यक्ति प्रतिदिन दूध की उपलब्धता है जबकि राजस्थान में 870 ग्राम प्रति व्यक्ति प्रतिदिन औसतन दूध उपलब्ध होता है। पशुपालकों को स्वच्छ दूध उत्पादन के लिए एक निर्धारित प्रक्रिया का पालन करने से दूध का उचित मूल्य और डेयरी व्यवसाय को अत्यंत लाभकारी बनाया जा सकता है। प्रो शर्मा ने कहा कि दूध पौष्टिक व संपूर्ण आहार के रूप में बच्चों, युवाओं और बुर्जुगों के लिए ऊर्जा का एक प्रमुख स्त्रोत है जो स्वच्छ दूध उत्पादन से ही हासिल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि दूध एक ऐसा माध्यम है जिसमें विषैले जीवाणु और किटाणुओं के पनपने की संभावना रहती है। वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो राजेश कुमार धूडिय़ा ने चौपाल का संचालन करते हुए देश में दूध के प्राचीन महत्व और देशी गौवंश के दूध की विशेषताओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रत्येक माह के दूसरे और चौथे बुधवार को श्रृंखला रूप से विषय विशेषज्ञों की वार्ताओं से राज्य के पशुपालक समुदाय को लाभान्वित किया जा रहा है। राजुवास के अधिकारिक फेसबुक पेज पर इसका सीधा प्रसारण देखा और सुना गया।


 



Popular posts
परमात्मा की इबादत योग्य गुरु से ही संभव है : राष्ट्रसंत डॉ वसंत विजय जी महाराज साहेब / हाथी घोड़ा व ऊंटों सहित पालकी यात्रा में गूंजा जयकारा गुरुदेव का
Image
राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब का अवतरण दिवस 5 मार्च को, त्रिदिवसीय श्री पद्मावती कृपा प्राप्ति आराधना-साधना महोत्सव का होगा आगाज
Image
केंद्रीय प्रशिक्षण शिविर योजनांतर्गत बीजेपी पुराना-नयाशहर मंडल का गैर आवासीय प्रशिक्षण शिविरों का आगाज
Image
कृष्णगिरी में श्री पद्मावती सिद्धि साधना शिविर में गूंजे दिव्य अलौकिक मंत्र / आराध्य और आराधक दोनों में शक्ति जरुरी : राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी मसा.
Image
पीबीएम हेल्प कमेटी, जीवन रक्षा, मारवाड़ होस्पिटल के सयुक्त तत्वावधान में रविंद्र रंग मंच मै 19 मार्च को कार्यक्रम
Image