भयंकर कोहरे से निपटने के लिए रेलवे के विशेष अतिरिक्त प्रबन्ध, फोग सेफ्टी डिवाईस व रेडियमयुक्त चमकीले वस्त्र





जयपुर/बीकानेर, 23 दिसम्बर (छोटीकाशी डॉट पेज)। उत्तर भारत में सर्दियों के मौसम में कोहरे की अधिकता के कारण मुख्यत: रेल यातायात भी प्रभावित होता है। उत्तर पश्चिम रेलवे के जयपुर एवं बीकानेर मण्डल के रेलखण्ड कोहरे की अधिकता से प्रभावित रहते है। उपरोक्त खण्डों में रेल सेवाओं के सुरक्षित संचालन के लिये रेलवे ने विशेष अतिरिक्त प्रबन्ध किये है। उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जन सम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार सर्दियों के मौसम में कोहरे की अधिकता के दौरान गाडी संचालन में संरक्षा एवं सुरक्षा को देखते उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा विशेष प्रंबधों के तहत समस्त रेलसेवाओं के लोको पायलेट दल को फोग सेफ्टी डिवाईस उपलब्ध करवाये जा रहे है, यह डिवाईस ऑन होने के बाद जीपीएस प्रणाली द्वारा उस खण्ड में स्थित सभी सिग्नलों की स्थिति के बारे में लोको पायलेट को पूर्व में ही अवगत कराता रहता है। जिससे लोको पायलेट अपनी गाड़ी की स्पीड की नियंत्रित कर संरक्षा सुनिश्चित करता है। कोहरे वाले रेलखण्ड के स्टेशनों, समपार फाटकों एवं पूर्व चिन्हित जगहों पर डेटोनेटर की आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है। डेटोनेटर एक प्रकार का धातु का बना पटाखा होता है, जिसे रेल पथ पर बांधा जाता है, जो रेल इंजन के दबाव से फटकर तेज आवाज करता है। लोको पायलेट को सिग्नल एवं अन्य संकेतकों की दृश्यता ठीक प्रकार से दिखे इसके लिए संकेतको पर पुन: पेटिंग एवं चमकीले साईन बोर्ड तथा संकेतकों के पास गिट्टियों को चुने से रंगा गया है। इसके अतिरिक्त ऐसे खण्ड में पेट्रोलिंग की आवृति को बढाकर रेलपथ की निगरानी को बढाया गया है। 


पेट्रोलिंग करने वाले रेलकर्मियों को रेडियमयुक्त चमकीले वस्त्र

साथ ही पेट्रोलिंग करने वाले कार्मिक को रेडियम युक्त चमकीले वस्त्र दिये गये है, जिससे उनकी वैयक्तिक सुरक्षा एवं संरक्षा भी हो पाती है। कोहरे के मौसम में संरक्षा को सुदृढ करने के लिए रेलकर्मियों के विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था, निरीक्षकों/अधिकारियों द्वारा रेलवे स्टॉफ की सजगता (अलर्टनेस) को लगातार चेक किया जा रहा है। कोहरे के मौसम में रेलयात्रियों की संरक्षा एवं सुरक्षा हेतु कटिबद्ध है। कोहरे की अधिकता वाले रेलखण्डों में गाडियॉ देरी से संचालित हो सकती है, अत: यात्रा शुरू करने से पूर्व रेलवे की अधिकृत वेबसाईट  www.indianrail.gov.in अथवा NTES एनटीईएस पर अपनी रेलगाडी की वर्तमान स्थिति देखकर ही जाये एवं असुविधा से बचें।

Popular posts
श्री विश्वशांति एवं महालक्ष्मी कुबेर अनुष्ठान में लिये गये संकल्प का फल राष्ट्रपति से लेकर हर आम इंसान को मिलेगा : राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी महाराज
Image
15 हजार 119 व्यापारियों ने लिया वाणिज्यिक कर विभाग की एमनेस्टी स्कीम का लाभ, 42 करोड़ रुपये माफ : हरि सिंह चारण
Image
प्रयागराज-जयपुर एक्सटेंशन बीकानेर ट्रेन को जल्द चलाया जाए, पुरी ट्रेन के खाली रेक को भेजें हरिद्वार
Image
नवाचार के साथ संयुक्त शपथग्रहण समारोह, नारायण चोपड़ा ने श्रावक निष्ठा पत्र का सभी को वाचन करवाया
Image
अभिमंत्रित सिद्ध होने वाले 5 हजार कलश जिस घर में पहुंचेंगे वहां सम्पन्नता, ऐश्वर्य, सुख व समृद्धि का होगा वास
Image