गो पुष्टि यज्ञ, गोबर गोमूत्र से बने घरेलू उत्पादों की प्रदर्शनी के साथ बीकानेर में दो दिवसीय गो सखी महोत्सव 24 व 25 जनवरी को



बीकानेर, 20 दिसम्बर (छोटीकाशी डॉट पेज)। राजस्थान में बीकानेर गोशाला संघ, राष्ट्रीय गाय आंदोलन राजस्थान एवं मां भारती सेवा प्रन्यास बीकानेर के संयुक्त तत्वावधान में आगामी 24, 25 जनवरी 2021 को दो दिवसीय गो सखी महोत्सव 2021 का आयोजन किया जाएगा। संगठन के अध्यक्ष सूरजमाल सिंह नीमराना ने रविवार को बताया कि इस दो दिवसीय गौ सखी महोत्सव में प्रथम दिवस 24 जनवरी को गो सखी महिलाओं द्वारा गो पुष्टि यज्ञ, गोबर गोमूत्र आदि से बने घरेलू उत्पादों की प्रदर्शनी के साथ प्रारंभ किया जाएगा। दूसरे दिवस पर 25 जनवरी 2021 को पंचगव्य उत्पाद से महिला स्वावलंबन पर गोष्टी व एक दिवसीय गोबर, गोमूत्र उत्पाद जानकारी शिविर का आयोजन किया जाएगा। इस महती आयोजन से पंचगव्य उत्पाद से गोबर, गोमूत्र के उत्पादों से आम महिलाएं कैसे स्वावलंबन प्राप्त कर सकती है और महिलाओं के द्वारा गौ माता के निमित्त उत्पादों को घर घर पहुंचा कर, गाय को कैसे बचाया जा सकता है इस पर मंथन किया जाएगा। माँ भारती सेवा प्रन्यास के अरविंद उभा ने बताया कि अपने आप में यह एक अनूठा प्रयास है, जिसमें गौमाता से सीधे तौर पर महिलाओं को जोड़ा जाएगा। गौ माता के गोबर गोमूत्र से तैयार किए उत्पादों से एक गृहस्थ महिलाएं कैसे लाभ ले सकती है, इस विषय में जानकारी दी जाएगी। गाय सनातन धर्म की लक्ष्मी स्वरूपा है और महिलाएं एक परिवार की गृह लक्ष्मी होती है, इन दोनों का समन्वय गो सखी के रूप में स्थापित कर एक दूसरे को संबल प्रदान करना है। राष्ट्रीय गाय आंदोलन के संयोजक शीशपाल गिरी गोस्वामी ने बताया कि संगठन का एकमात्र उद्देश्य है गाय को आम भारतीय परिवारों से जोडऩा है और इसके लिए सबसे सुंदर कड़ी है भारतीय परिवार की महिला संरक्षक। जब महिलाएं गाय से सीधे जुड़ जाएगी तो गौ माता का भला अपने आप हो जाएगा, इसलिए हमने इस अनूठे कार्यक्रम का नाम ही गो सखी महोत्सव रखा है। इस सम्मेलन में गाय से संबंधित विभिन्न तरह की जानकारी विषय विशेषज्ञों द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी। संगठन के पार्षद अनूप गहलोत ने बताया कि यह आयोजन तुलसी सर्किल पर आयोजित किया जाएगा, जो भी महिलाएं, इस गो सखी आयोजन में सम्मिलित होने की इच्छुक हैं वे सम्पर्क कर सकती है। इस सम्बन्ध मेें आयोजित बैठक में भारतीय जन स्वाभिमान मंच के महामंत्री विष्णु सिंह राजपुरोहित, गोपाल सिंह, प्रेम सिंह, चांदवीर सिंह, सुशील कुमार सुथार, मनोज स्वामी, सुनील आचार्य, सरवन सिंह राठौड़ सहित अनेक ने भाग लिया। बैठक का संचालन महेंद्र सिंह ने किया।