भौतिक और वैवाहिक सुख के कारक शुक्र ग्रह 23 अक्टूबर को करेंगे कन्या राशि में प्रवेश




भौतिक और वैवाहिक सुख में होगी वृद्धि, अमृत संजीवनी के मालिक हैं शुक्र


कोरोना महामारी से होने वाली मृत्यु दर में कमी आएगी यानी कोरोना का असर न्यूनतम होगा


रोजगार के क्षेत्रों में होगी वृद्धि, व्यापार में भी रहेगी तेजी


जयपुर। दैत्यों के गुरु और भाग्य के कारक शुक्र ग्रह 23 अक्टूबर से सिंह राशि से निकलकर कन्या राशि में प्रवेश करेगा। शुक्र ग्रह को भोग विलास, सुख-सुविधा, प्रेम, विलासिता जैसा कारकों के लिए जाना जाता है। शुक्र मीन राशि में उच्च के होते हैं तो कन्या राशि में नीच के माने जाते हैं। उच्च शुक्र शुभ फलदायी होते हैं नीच शुक्र नकारात्मक परिणाम लेकर आते हैं। नवग्रहों में शामिल छठा ग्रह शुक्र वृषभ और तुला राशि का स्वामी माना जाता है। पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक, विश्व विख्यात ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि 23 अक्टूबर 2020 को सुबह 10 बजकर 58 मिनट पर शुक्र अपनी नीच माने जानी वाली राशि कन्या में प्रवेश कर रहे हैं। इस राशि में शुक्र देव 25 दिनों के लिए स्थित रहेंगे और फिर मंगलवार 17 नवंबर 2020 को दोपहर 12 बजकर 50 मिनट पर कन्या राशि से निकल कर अपनी स्वराशि तुला में प्रवेश करेंगे। शुक्र ग्रह से सभी राशियां भी प्रभावित होती है। उन्होंने बताया कि शुक्र एक शुभ ग्रह है यदि शुक्र कुंडली में मजबूत होता है तो जातकों को इसके अच्छे परिणाम मिलते हैं जबकि कमज़ोर होने पर यह अशुभ फल देता है। शुक्र को 27 नक्षत्रों में से भरणी पूर्वा फाल्गुनी और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्रों का स्वामित्व प्राप्त है। ग्रहों में बुध और शनि ग्रह शुक्र के मित्र ग्रह हैं जबकि सूर्य और चंद्रमा इसके शत्रु ग्रह माने जाते हैं। विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास के मुताबिक शुक्र का पौराणिक कथाओं में प्रचलित नाम शुक्राचार्य है, जिनके पास संजीवनी विद्या थी और ये शिव के परम भक्त व महर्षि भृगु ऋषि के पुत्र हैं। सप्ताह में शुक्रवार का दिन शुक्र को समर्पित है। शुक्र के अच्छे फल के लिए महिलाओं का सम्मान करना चाहिए। परशुराम की आराधना करने से भी शुक्र की कृपा प्राप्त होती है। वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह को एक शुभ ग्रह माना गया है। इसके प्रभाव से व्यक्ति को भौतिक शारीरिक और वैवाहिक सुखों की प्राप्ति होती है। इसलिए ज्योतिष में शुक्र ग्रह को भौतिक सुख, वैवाहिक सुख भोग-विलास, शौहरत, कला-प्रतिभा, सौन्दर्य, रोमांस, काम-वासना और फैशन-डिजाइनिंग आदि का कारक माना जाता है।


शुक्र का शुभ-अशुभ प्रभाव..


विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शुक्र के राशि परिवर्तन से भौतिक सुख और वैवाहिक सुख में वृद्धि होगी। कानूनी मामलों में वृद्धि होगी। कानूनी विवाद ज्यादा होंगे। रोजगार के क्षेत्रों में वृद्धि होगी। आय में बढ़ोतरी होगी। इसके साथ ही राजनीति में उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा। व्यापार में तेजी रहेगी। सोने चांदी के भाव में वृद्धि होगी। शुक्र के अशुभ प्रभाव से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी होती है।  


शुक्र के पास अमृत संजीवनी..


कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि अमृत संजीवनी के मालिक शुक्र पृथ्वी के साथ हैं और शुक्र के पास अमृत संजीवनी है। इस कारण प्राकृतिक आपदा और अप्रिय घटनाएं जन शून्य स्थानों पर होने की संभावना अधिक है। शुक्र अमृत संजीवनी के कारण दुर्घटना के शिकार लोगों को बचाने में सफल रहेंगे। कोरोना महामारी से होने वाली मृत्यु दर में कमी आएगी और कोरोना का असर न्यूनतम होगा।


 ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास के मुताबिक शुक्र के गोचर से सभी राशियों पर प्रभाव..


मेष राशि - कानूनी विवादों का सामना करना पड़ सकता है। शत्रुओं की संख्या बढ़ेगी। नौकरी में बदलाव का सही समय नहीं है।


वृषभ राशि - शिक्षा के क्षेत्र में कामयाबी मिलेगी। नए अवसर प्राप्त हो सकते हैं, वहीं संतान से शुभ समाचार सुनने को मिल सकता है।


मिथुन राशि - संपत्ति में इजाफा होगा। सोशल वर्क करने से आपकी लोकप्रियता में बढ़ोतरी होगी। शक्ति प्रबल होगी और सौ फीसदी कार्य संपन्न होंगे।


कर्क राशि - बिजनेस में भाई बहनों का सहयोग मिलेगा। पराक्रम में वृद्धि होगी। परिवार में खुशी मिलेगी। माता-पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।


सिंह राशि - व्यापार में शुभ फल की प्राप्ति होगी। नौकरी के नए अवसर मिलेंगे। आदमनी के नए स्रोत खुलेंगे। पारिवारिक जीवन में सुख संपन्नता आएगी।


कन्या राशि - सकारात्मक महसूस करेंगे। आशावादी रहेंगे। लव लाइफ में भी सब कुछ अच्छा होगा। रिश्ते पहले से ज्यादा मजबूत होंगे।


तुला राशि - विदेश यात्रा की इच्छा पूरी होगी। विदेशी स्रोतों से व्यापार में भी लाभ होगा। भौतिक सुखों में बढ़ोतरी होगी। कर्ज की समस्या भी खत्म होगी।


वृश्चिक राशि - आय बढ़ेगी और धन संबंधित समस्याओं का निराकरण होगा। कार्यक्षेत्र में अनुकूल परिणाम मिल सकते हैं। कई नए प्रोजेक्ट मिलेंगे।


धनु राशि - राजनीतिक दायरा बढ़ेगा। शत्रु सक्रिय होंगे, उनसे बचकर रहें। नकारात्मक सोच बढ़ेगी इसलिए इससे बचकर रहें।


मकर राशि - भाग्य का पूरा साथ मिलेगा, जिससे आपको हर कार्य में सफलता मिले, लव लाइफ में यह समय इस राशि वालों के लिए बहुत उत्तम है।


कुंभ राशि - जीवन में उतार चढ़ाव महसूस करेंगे। परिवार के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कार्यक्षेत्र में उन्नति के आसार हैं। पारिवारिक सुख बढ़ेगा।


मीन राशि - चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। छवि को नुकसान पहुंचेगा। बिजनेस में विवाद हो सकता है। वैवाहिक जीवन में विवाद बढ़ेगा।


शुक्र ग्रह के उपाय.


विश्वविख्यात भविष्यवक्ता अनीष व्यास ने बताया कि लक्ष्मी माता की उपासना करें। सफेद वस्त्र दान करें। भोजन का कुछ हिस्सा गाय, कौवे और कुत्ते को दें। शुक्रवार का व्रत रखें और उस दिन खटाई न खाएं। चमकदार सफेद एवं गुलाबी रंग का प्रयोग करें। श्रीसूक्त का पाठ करें। शुक्रवार के दिन दही, खीर, ज्वार, इत्र, रंग-बिरंगे कपड़े, चांदी, चावल इत्यादि वस्तुएं दान करें।


Popular posts
राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब का अवतरण दिवस 5 मार्च को, त्रिदिवसीय श्री पद्मावती कृपा प्राप्ति आराधना-साधना महोत्सव का होगा आगाज
Image
पीबीएम हेल्प कमेटी, जीवन रक्षा, मारवाड़ होस्पिटल के सयुक्त तत्वावधान में रविंद्र रंग मंच मै 19 मार्च को कार्यक्रम
Image
सरकारी स्कूल के वार्षिकोत्सव समारोह में श्रीकोलायत पहुंचे एडीईओ सुनील बोड़ा ने किया छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत
Image
राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर बोले डॉ. पी.एल.सरोज ; विज्ञान एवं कृषि विषयों द्वारा बन सकते हैं वैज्ञानिक
Image
नोखा में श्री बालाजी हॉस्पिटल का शुभारम्भ, रामेश्वरानंदजी व अजय पुरोहित रहे बतौर अतिथि मौजूद
Image