खजूर फॉर्म नाम से जानते हैं राजस्थान कृषि विवि को , 34 वैरायटी के वृक्ष देते हैं 4 साल बाद फल




बीकानेर (सीके न्यूज/छोटीकाशी) राजस्थान में बीकानेर संभाग मुख्यालय पर स्थित स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के म्यूजियम में सहायक निदेशक उद्यान द्वारा राष्ट्रीय कृषि विकास योजना अंतर्गत प्रशिक्षण एवं समन्वय बैठक का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि कुलपति प्रो आर.पी सिंह ने 100 से भी अधिक किसानों को संबोधित करते हुए बताया कि कृषि विश्वविद्यालय खजूर फॉर्म के नाम से ही जाना जाता है यहां 34 वैरायटी के वृक्ष उपलब्ध है। यद्यपि खजूर में लगभग 4 साल बाद फल आते हैं लेकिन वर्तमान में इसका मूल्य भी अच्छा मिल रहा है और किसानों को इसका अच्छा लाभ मिलता है। इसकी उत्पत्ति इराक में मानी जाती है, खजूर को राजस्थान में सबसे पहले महाराजा गंगा सिंह लाए थे और आज इसकी प्रगति को देखते हुए लगभाग 1100 हेक्टेयर क्षेत्र में उगाया जाता है। खजूर एक पूर्ण खुराक है और कुपोषण की लड़ाई लडऩे में बहुत उपयोगी है। किसान दातार सिंह, शिवचरण और महावीर प्रसाद द्वारा पूछे गए सवालों पर भी संक्षिप्त चर्चा करते हुए कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के मोबाइल नंबर लेकर जाएं और तकनीकी समस्या का समाधान लें व संकोच ना करें। किसान पूरे क्षेत्र में वृक्ष ना लगा कर के भले ही मेढ पर लगाएं लेकिन खजूर के वृक्ष जरूर लगाएं। इसके मूल्य संवर्धित उत्पाद बेचे जाएं तो वर्ष भर आय का साधन उपलब्ध होता है कृषि विश्वविद्यालय में इसके प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की गई है। इसके अलावा इसके अलावा राज्य सरकार से अगर सब्सिडी मिलती है तो दी जानी चाहिए ताकि किसानों को अधिक से अधिक लाभ हो और वह प्रगति के पथ पर आगे बढ़े है। इस समन्वय बैठक व प्रशिक्षण में बीकानेर, चूरू, झुंझुनू व सीकर जिले के 100 से अधिक, खजूर स्थापित बगीचे एवं नवीन बगीचा लगाने वाले किसानों ने भाग लिया।  



जयपुर से आए अतिरिक्त निदेशक उद्यान डॉ. कुमावत ने भी कही अपनी बात


अतिरिक्त निदेशक उद्यान जयपुर डॉ आर.पी. कुमावत ने बताया कि खजूर की खेती के प्रति किसानों का रुझान बढ़ रहा है। इसकी मांग में भी समय के साथ साथ वृद्धि हो रही है। खजूर की खेती में 2008 से 2012-13 तक ज्यादा प्रगति नहीं हुई। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गतए सबसे पहले 3 जिलों में कार्य शुरू किया गया उसके पश्चात 18 जिलों में इसकी शुरुआत की गई । टिश्यू.कल्चर लंबी प्रक्रिया जैसी कुछ समस्याओं के रहते खजूर की खेती में वांछित प्रगति नहीं हुई। खजूर खेती को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री घोषणा के अंतर्गत इसे प्राथमिकता से शामिल किया गया है और वर्ष 2021-22 में 60 हजार वृक्ष लगाने का लक्ष्य रखा गया है। खजूर के 20 हजार पौधे सकर माध्यम एवं शेष 40 हजार पौधे उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न प्रयास करने की आवश्यकता है एइसमें राज्य सरकार स्तर पर मददए जिलेवार संगोष्ठीए खरीदने वाले बेचने वालों के मध्य संवाद स्थापित किया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान किसानों ने ऑफशूट उत्पादन से अतिरिक्त आमदनी, स्थानीय वातावरण में तैयार होने से पौधे, स्थानीय स्तर पर अच्छी किस्म के पौधों की उपलब्धता परिवहन व्यय की बचत, रोजगार में वृद्धि, पौधों की उपलब्धता में वृद्धि एकम लागत में उच्च गुणवत्ता वाले पौधे उपलब्ध विषय पर जानकारी जुटाई। कार्यक्रम के दौरान डॉक्टर आर.के. नैनावत उप निदेशक उद्यान बीकानेर, डॉ पी.एस. कुशवाहा प्रभारी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खजूर फॉर्म, जैसलमेर, अनुसंधान निदेशक डॉ पी एस शेखावत, निदेशक प्रसार डॉक्टर सुभाष चंद्र, स्वामी विवेकानंद कृषि संग्रहालय के प्रभारी डॉ दीपाली धवन, डॉ आर एस शेखावत भी उपस्थित रहे।

Popular posts
दुबई के शारजहां में समुद्र के किनारे चोखी ढाणी रिसोर्ट में लगेगी पूर्व महाराजा गंगासिंह की प्रतिमा
Image
रोडवेडकर्मियों ने जयपुर में 5 अक्टूबर को जयपुर में महारैली करने का लिया फैसला!
Image
राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय के चुनाव जयपुर में सम्पन्न, बीकानेर के शिक्षक नेता रवि आचार्य निर्विरोध अतिरिक्त महामंत्री निर्वाचित
Image
श्राद्ध से जुड़ी हर वो बात जिसे आपको जानना चाहिए, श्राद्ध पक्ष 06 अक्टूबर तक चलेगा : "गुरु" डॉ. नरोत्तम पुजारी-"गुरु"धाम सालासर
Image
प्रिंसीपल डॉ. जी.पी.सिंह, एडी डॉ. राकेश हर्ष निजी खर्च से एक हजार व्यक्तियों को कराएंगे भोजन : बीकानेर सबसे बड़ा केम्पस केंद्र डूंगर कॉलेज !
Image