राष्ट्रहित के लिए लेह-लद्दाख में प्रथम सिन्धु महाकुंभ के रुप में जून में मनाया जाएगा 25 वां सिन्धु दर्शन उत्सव




जयपुर, 17 मार्च (सीके न्यूज/छोटीकाशी)। लेह लद्दाख में प्रथम सिन्धु महाकुंभ के रुप में इस बार 25 वां सिन्धु दर्शन उत्सव 19 से 27 जून तक मनाया जाएगा। हिमालय परिवार के राष्ट्रीय महामंत्री दिलबाग सिंह ने यह जानकारी बुधवार को देते हुए बताया कि इस भक्तिपूर्ण, उत्साहजनक और अपने आप में रोमांच से भरी हिन्दू व बौद्ध समन्वय की यात्रा है। सांस्कृतिक, धार्मिक तथा राष्ट्रीय एकता के कार्यक्रमों के साथ-साथ सिन्धु स्नान, बहराणा साहिब पूजन का अवसर इस दौरान मिलता है। उन्होंने आह्वान किया कि प्रकृति की अनुपम आलौकिक छटा को निहार कर एक बार भरपूर जीने के लिए जीवन की यादगार यात्रा को संजोने हेतू महाकुंभ में भाग लेना चाहिए। यह यात्रा देश के गौरवशाली अतीत की याद दिलाती है, सिन्धु नदी सबसे लंबी नदी है, कैलाश पर्वत से निकलकर मानसरोवर झील से होते हुए लेह में इस नदी का उद्गम होता है। उन्होंने बताया कि यात्रा को लेकर देशवासियों में काफी उत्साह है। दिलबाग सिंह ने यह भी बताया कि प्रथम सिंधु महाकुंभ के लिए प्रथम चरण की यात्रा 19 जून से महाकुंभ के रूप में सिंधु नदी के तट पर लेह लद्दाख में होगी। यात्रा तीन स्थानों से निकल रही है। प्रथम यात्रा चंडीगढ से मनाली होते हुए लेह लद्दाख सिंधु नदी तट पर पहुंचेगी। चार दिन सिंधु नदी में स्नान, पूजा पाठ व भ्रमण करने के बाद कश्मीर होते हुए जम्मू में समाप्त होगी। दूसरी यात्रा जम्मू से प्रारंभ होकर कश्मीर भ्रमण करते हुए लेह लद्दाख सिंधु नदी पर स्नान, पूजा पाठ व भ्रमण करने के पश्चात मनाली होते हुए चंडीगढ समाप्त होगी। तीसरी यात्रा दिल्ली हवाई जहाज से लेह लद्दाख पहुंचेगी और लेह लद्दाख सिंधु नदी पर स्नान, पूजा पाठ व भ्रमण करने के बाद वापस दिल्ली पहुंचकर समाप्त होगी। उधर यह भी बताया जा रहा है कि भारत सहित विदेश से भी यहां हजारों लोग पहुंचेंगे। इस महा आयोजन के लिए अभी से तैयारियां शुरु हो चुकी है। सिंधु दर्शन तीर्थ यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन भी शुरू हो गया है। इसमें देश-विदेश से तीर्थयात्रियों ने पंजीयन शुरू कर दिया है।

Popular posts
देश का नाम रोशन करने वाले ख्याति प्राप्त गोल्फर पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ के दिशा-निर्देशन में बीकानेर का पहला और एकमात्र गोल्फ कोर्स शुरु
Image
आशापुरा पोकरण के लिए बसें रवाना, राजकुमार व्यास बोले ; माता के दरबार में मनाया जाता है नवरात्रा उत्सव
Image
ब्रम्हर्षि आश्रम तिरुपति में महाचंडी महायज्ञ के साथ श्रीनवरात्रि महामहोत्सव संपन्न, जूम ऑनलाइन पर जुड़े देश और दुनिया के अनेक गुरुभक्त
Image
राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र (एनआरसीसी) देगा ऊंट के बालों से पारंपरिक उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण
Image
श्रीकृपा व्यास के मुखारविंद से भागवत कथा शुरु : राजेश चूरा, मीना आचार्य व अमित व्यास ने किया दीप प्रज्जवलन
Image