133 बच्चों, 16 महिलाओं की घर वापसी सुनिश्चित कर मददगार बना उत्तर-पश्चिम रेलवे का रेलवे सुरक्षा बल




JAIPUR, 03 जनवरी (छोटीकाशी डॉट पेज)। उत्तर पश्चिम रेलवे North Western Railway का रेलवे सुरक्षा बल रेल यात्रा करने वाले यात्रियों के साथ-साथ आश्रयहीन महिलाओं तथा बच्चों के लिए मददगार साबित हो रहा है। उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण ने रविवार को बताया कि  रेलवे सुरक्षा बल द्वारा बीते वर्ष 2020 में 133 बच्चों एवं 16 महिलाओं, जो बेघर हो गए थे, को उनके परिजनों, एनजीओ, पुलिस को सुपुर्द कर उनकी घर वापसी सुनिश्चित किया। वहीं रेलवे सुरक्षा बल रेल नियम तोडऩे वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही कर रहा है। वर्ष 2020 के दौरान रेल गाडी व रेल परिसर में आईपीसी/सीआरपीसी, आर्मस एक्ट, के तहत कुल 45 अपराधियों को पकड कर राजकीय रेलवे पुलिस को सुुपुर्द किया गया। उन्होंने बताया कि पूर्व में घटित एक अन्य घटना में हेड कांस्टेबल मुकेश मीणा तैनात जोधपुर पोस्ट द्वारा सवारी गाड़ी संख्या 22478 में फुलेरा से जोधपुर एस्कार्टिंग के दौरान मेड़तारोड स्टेशन पर चलती ट्रेन से गिरती हुई एक महिला, जहां पर स्थितियां बहुत विषम थी, अपने जीवन की चिन्ता किए बगैर उनके प्राणों को बचाया जिसके लिए उन्हें जीवन रक्षा पदक से सम्मानीत किया गया। यात्रियों तथा आमजन को सुरक्षित यात्रा कराने के लिए रेलवे सुरक्षा बल निरंतर प्रयासरत है।

Popular posts
विश्व में सबसे ज्यादा सड़क सुरक्षा पर दोहे लिखकर बीकानेर के मेवासिंह ने बनाया रिकॉर्ड !
Image
बीएसएफ के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. घनश्याम दास 31 वर्ष की सेवा के उपरांत सेवानिवृत्त, डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ ने दी शुभकामनाएं
Image
बेटिकट यात्रियों, नियम को नहीं मानने वालों से बीकानेर मंडल ने वसूला 1 करोड़ रुपए से ज्यादा राजस्व : रविंद्र चौहान पहले व आशीष व्यास दूसरे नंबर पर
Image
राजकीय डूंगर महाविद्यालय में वाहनों के प्रदूषण जाँच के लिए एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक द्वारा शिविर आयोजित
Image
कैमल इको टूरिज्म को बढ़ावा देने हेतु एनआरसीसी के महत्ती प्रयास, रोशनी युक्त सौन्दर्यकरण बेल आकृति लोकार्पित
Image