ठोस कचरे का सावधानी पूर्वक निस्तारण किया जाए- संभागीय आयुक्त मेहरा


 


बीकानेर, 06 अगस्त। संभागीय आयुक्त भंवर लाल मेहरा ने संभाग में ठोस कचरे का, मेडिकल वेस्ट और वेस्ट प्लास्टिक के निस्तारण के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने ठोस कचरे के निपटान और तत्काल जवाबदेही तय करने के लिये कुछ दिशा-निर्देश जारी किए है,उनकी पालना सुनिश्चित होनी चाहिए।
                                मेहरा ने गुरूवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय में उप निदेशक क्षेत्रीय स्वायत शासन विभाग, संयुक्त निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग और क्षेत्रीय अधिकारी पर्यावरण विभाग के अधिकारियों की बैठक में कहा कि तीनों ही विभागों को पर्यावरण शुद्ध रखने के लिए सार्थक प्रयास करें। उन्होंने कहा कि ठोस अपशिष्ट के कारण कई प्रकार की बीमारियाँ जैसे-हेपेटाइटिस, हैजा, आंत्रज्वर, पेचिस तथा कॉलरा जैसी बीमारियों का प्रकोप बढ़ने की संभावना रहती है। अतः ठोस कचरे का निस्तारण सावधानीपूर्वक होना चाहिए। उन्होंने संभाग में ठोस कचरा निस्तारण वाले स्थानांे के बारे में जानकारी ली और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। संभागीय आयुक्त ने संभाग के जिलों में बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट के संबंध में जानकारी ली और कहा कि इसके मैनेजमेंट में की गई कार्रवाई महज खानापूर्ती नहीं होनी चाहिए। स्वास्थ्य विभाग में पंजीकृत अस्पतालों के यहां बार कोड वाली थैलियों का प्रयोग हो रहा है अथवा नहीं, इसकी जांच की जाए। हालांकि, कई अस्पताल बार कोड वाली थैलियों का प्रयोग कर रहे हैं, फिर भी स्वास्थ्य विभाग इसके निस्तारण की माॅनिटरिंग करता रहे। संभागीय आयुक्त ने कहा कि बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट और हैंडलिग एक्ट 1998 को संशोधित किए जाने के बाद वर्ष 2016 में सजा के प्रावधान कड़े कर दिए गए। नए कानून में इधर-उधर कूड़ा-कचरा फेंकने पर पांच साल तक की जेल व जुर्माने का प्रावधान है। कुछ अस्पताल अपने मनचाहे तरीके से बायोमेडिकल वेस्ट का मैनेजमेंट करते हैं। जिन थैलियों का उपयोग किया जाता है,वह सादा ही हैं। किस अस्पताल का कूड़ा-कचरा सड़क पर फेंका जा रहा है, इस पर निगरानी रखी जाए। एक्ट का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगाया जाए। संभागीय आयुक्त ने कहा कि प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम, 2016 के अनुसार, प्रयोग किये गए बहु-स्तरीय प्लास्टिक पाउच और पैकेजिंग प्लास्टिक के संग्रहण की प्राथमिक जिम्मेदारी उत्पादकों, आयातकों और ब्रांड मालिकों की है, जो बाजार में उत्पादों को पेश करते हैं। उन्हें अपने उत्पादों की पैकेजिंग में प्रयोग किये प्लास्टिक कचरे को वापस इकट्ठा करने के लिये एक प्रणाली स्थापित करने की आवश्यकता है, पर्यावरण विभाग संभाग में इस संबंध में ब्रांड मालिकों द्वारा क्या प्रयास किए हंै, उसकी रिपोर्ट तैयार करें। उन्होंने इस संबंध में बने अधिनियमों की समय-समय पर राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की पालना करवाने पर जोर दिया। उन्होंने संभाग में डम्पिंग यार्ड, सीवरेज सिस्टम, ट्रीटमेन्ट प्लांट की स्थिति की भी जानकारी ली। बैठक में क्षेत्रीय उप निदेशक स्वायत शासन विभाग के.एल.सोनगरा ने संभाग में निकाय प्रशासन द्वारा ठोस कचरा प्रबंधन, सीवरेज ट्रीटमेन्ट प्लांट, डम्पिंग यार्ड आदि की जानकारी दी। उपनिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग डाॅ. संदीप अग्रवाल तथा क्षेत्रीय पर्यावरण अधिकारी प्रेमाराम ने विभाग के संबंधित जानकारी दी। बैठक में अतिरिक्त संभागीय आयुक्त इंदीवर दुबे उपस्थित थे।


Popular posts
केंद्र सरकार ने देश के स्कूलों की मदद करने के लिए एनसीसी को स्व वित्तीय पोषण योजना के रुप में किया आरंभ
Image
बीएसएफ सैक्टर बीकानेर मना रहा गौरवमय 50 वर्ष स्थापना दिवस, सीमा पर तैनात जवानों ने बखूबी फर्ज निभाते हुए बॉर्डर को सुरक्षित रखा
Image
अग्रवाल की बीकानेर शहर के व्यापारियों व उद्योगपतियों से अपील, टीकाकरण वित्तीय सहयोग प्रदान करें
Image
सिद्धि कुमारी ने स्वीकृत किए 1 करोड़, बनेगा ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट : डेढ़ महीने पहले भी स्वीकृत किए थे 1 करोड़
Image
राजा जी फाउण्डेशन ने डिस्पेंसरी में दी इलेक्ट्रोनिक सैनेटाइजन मशीन, बिस्सा भी रहे मौजूद
Image