एमआई इवेंट्स करा रहा कम खर्च में सादगीपूर्ण शादी / वैवाहिक जोड़ियों को भाया, रिश्तेदारों ने अपनाया..


 


 



 


 


बेंगलुरु। वैश्विक महामारी कोरोना, लॉकडाउन और कहीं-कहीं कर्फ़्यू के दौर, वहीं शादियों का भी मौसम। लेकिन वैवाहिक आयोजन स्थलों और महल पैलेस आदि खाली है। ऐसे में बगैर घोड़ी और बैंड के बारातें चल रही है। दुल्हनिया भी सादगी से सज धज कर ससुराल पहुंच रही है। जी हां, ऐसा ही हो रहा है। निश्चित ही आगे भी ऐसा ही जारी भी रहना चाहिए। यह कहना है शहर के चामराजपेट स्थित एमआई इवेंट्स एंड मैनेजमेंट के निदेशक दीपक धोका का।  यूं देखा जाए तो आज हर समाज के लोग बगैर आडंबर सादगी पूर्ण आयोजन करने का प्रयास करते हैं, लेकिन वह अंततः हार ही जाते हैं। इस बार कुदरत ने कोरोना के रूप में ऐसी परिस्थितियां ला दी है कि अब शादी तथा अन्य मांगलिक आयोजन ऐसे सादगी पूर्ण तरीके से ही करने होंगे। फूलों की सजावट, स्टेज, डेकोरेशन आदि के कारीगर तो लगभग अपने घर-प्रदेश को लौट गए हैं। यह एक समस्या भी है। साथ ही किसी एक अच्छे कार्य को सपोर्ट भी कर रही है। यानी अब हो रही शादियों में सजावट एकदम सादी व सिंपल सी हो रही है। इसके बावजूद परिवार वाले खूब आनंद उठा रहे हैं। संगीत में भी नृत्य आदि की बजाय पारिवारिक अंताक्षरी अपनों के करीब होने का एक सुनहरा अवसर प्रदान कर रही है। दुनिया को दिखावा न करते हुए खर्चीली फोटोशूट की जगह अब अपनों के साथ बिताए पल जीवंत से हो गए हैं। यही नहीं सादगी के कारण ही अपनी यादों को कैद करने का सुनहरा अवसर आया है। दीपक धोका बताते हैं परिवार एक दूसरे के साथ चलना भी सीख रहे हैं। अब शादियां नॉर्मल व सादी ही होनी चाहिए जिससे लगे कि शादी है ना कि कोई बहुत बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम। लॉकडाउन के बाद व्यापार की हालत को देखते हुए किसी को भी अतिरिक्त खर्च पसंद नहीं आ रहा। फिर भी ऐसी परिस्थितियों में इवेंट कंपनियां नए-नए तरीके ढूंढ कर कुछ नया माहौल देने का प्रयास कर रही है, ताकि काम सबका चलता रहे तथा सादगी के नियम का भी पालन हो सके। इसे इंडस्ट्री की मेहनत और कला भी कहा जा सकता है। दीपक धोका कहते हैं ऐसे समय में अपनों का साथ देना भी अति आवश्यक है और हम सभी को हाथ से हाथ मिला कर तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर अभियान को भी मध्य नजर रखते हुए आगे बढ़ना चाहिए। सादगी पूर्ण वैवाहिक आयोजनों से निश्चित ही खाने की बर्बादी तो रुकेगी ही, मेहमानों की संख्या सीमित होने के कारण खर्च कम होगा और घर परिवार वाले शादी को एंजॉय कर सकेंगे। सादगी पूर्ण, कम खर्च, आडंबर रहित विवाह ही अब हर नव युगलजोड़ी की पसंद बन रहा है। दीपक धोका (9844407163) ने यह भी बताया कि कोरोना लॉकडाउन के कारण बिग फेट इंडियन वेडिंग पर खासा असर दिखाई दे रहा है। ऐसे दौर में एमआई इवेंट एंड मैनेजमेंट कम्पनी डिजिटल वेडिंग, शॉर्ट टर्म वेडिंग, स्पेशल कस्टमाइज्ड वेडिंग जैसे अनेक विकल्प उपलब्ध करा रहा है।


 



Popular posts
केंद्र सरकार ने देश के स्कूलों की मदद करने के लिए एनसीसी को स्व वित्तीय पोषण योजना के रुप में किया आरंभ
Image
बीएसएफ सैक्टर बीकानेर मना रहा गौरवमय 50 वर्ष स्थापना दिवस, सीमा पर तैनात जवानों ने बखूबी फर्ज निभाते हुए बॉर्डर को सुरक्षित रखा
Image
अग्रवाल की बीकानेर शहर के व्यापारियों व उद्योगपतियों से अपील, टीकाकरण वित्तीय सहयोग प्रदान करें
Image
सिद्धि कुमारी ने स्वीकृत किए 1 करोड़, बनेगा ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट : डेढ़ महीने पहले भी स्वीकृत किए थे 1 करोड़
Image
राजा जी फाउण्डेशन ने डिस्पेंसरी में दी इलेक्ट्रोनिक सैनेटाइजन मशीन, बिस्सा भी रहे मौजूद
Image