धर्मपालन के आनंद का अनुभव करने के लिए हिन्दू संस्कृतिनुसार मनाएं नववर्ष: आनंद जाखोटिया


बीकानेर, 24 मार्च। हिन्दू धर्म सर्वश्रेष्ठ धर्म है, परंतु दुर्भाग्य की बात है कि हिन्दू ही इसे समझ नहीं पाते। पाश्चात्यों के अयोग्य और अधर्मी कृत्यों का अंधानुकरण करने में ही अपने आप में धन्य समझते हैं। 31 दिसम्बर की रात में नववर्ष का स्वागत और 1 जनवरी को नववर्षारंभदिन मनाने लगे हैं। हिन्दू जनजागृति समिति के मध्यप्रदेश और राजस्थान समन्वयक आनंद जाखोटिया ने बताया कि नववर्ष 1 जनवरी को नहीं, अपितु हिन्दू संस्कृतिनुसार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा यानि 25 मार्च 2020 को मनाकर धर्मपालन के आनंद का अनुभव करना चाहिए। इस समय वसंत रितु में वृक्ष पल्लवित हो जाते हैं। उत्साहवर्धक और आल्हाददायक वातावरण होता है, ग्रहों की स्थिति में भी परिवर्तन आता है, ऐसा लगता है कि मानो प्रकृति भी नववर्ष का स्वागत कर रही है। वर्षप्रतिपदा साढे तीन मुहूर्तों में से एक है, इसलिए इस दिन कोई भी शुभकार्य कर सकते हैं इस दिन कोई भी घटिका (समय) शुभ मुहूर्त ही होता है।


Popular posts
पीएम मोदी के जन्मदिन पर रांका ने 200 मंदिरों में चढ़ाया प्रसाद, लगातार 20 दिन करेंगे सेवा व समर्पण कार्य
Image
रामेश रत्नम का भूमि पूजन शिखर चंद सुराणा के कर कमलों से हुआ
Image
डूंगर काॅलेज में प्रख्यात शिक्षाविद् एवं रसायनज्ञ प्रो. रविन्द्र कुलश्रेष्ठ का सम्मान, पुस्तक आध्यात्मिक अंकुर नाम पुस्तक का भी वितरण
Image
बीकानेर बीएसएफ में अध्यक्षा श्रीमती अंबिका राठौड़ की अगुवाई में हर्षोल्लास से मनाया गया बावा स्थापना दिवस
Image
पूर्व कलेक्टर और आज के मुख्य सचिव निरंजन आर्य से बीकानेर को 'महानगरों से कनेक्टिविटी' कराने की मांग
Image