भारत-पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर स्थित सांचू पोस्ट पर बनायी दर्शक दीर्घा से लोग देख सकेंगे पाकिस्तानी चौकियां





सीके न्यूज, छोटीकाशी। बीकानेर। भारत-पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर वर्ष-1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में जिस सांचू पोस्ट पर पाकिस्तानी रेंजर्स ने खाली देखकर जमीन पर कब्जा किया पता चलने पर भारत से भीषण युद्ध में पाकिस्तानी सैनिक भाग खड़े हुए। उसी पोस्ट पर बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स [बीएसएफ] ने दर्शक दीर्घा, ओपीटावर बनाया है जिसका लोकार्पण बीएसएफ के डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ ने किया है। इस मौके पर 114 वीं वाहिनी के कमांडेंट हेमंत कुमार यादव, डीसीजी दीपेंद्र सिंह शेखावत, डिप्टी कमांडेंट प्रताप भाखर, राववाला सरपंच पुन्नू खां सहित अनेक ग्रामीण मौजूद थे। राठौड़ ने बताया कि दूरबीन से तारबंदी के उस पार पड़ौसी मुल्क की पोस्ट और पिल्लर देखे जा सकते हैं। यहां आने वाले आगंतुकों को यहां दर्शकदीर्घा, ओपी टावर से दिखाया जाएगा। राठौड़ ने बताया कि यह सांचू सीमा चौकी सामरिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है। सन् 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध से पहले बीकानेर जिले की बॉर्डर बेल्ट में ये सबसे बड़ा गांव था। आरएसी की चौकियां 25 किलोमीटर पीछे बरसलपुर-रणजीतपुरा गांव में थी। सन् 1965 के युद्ध के दौरान पाकिस्तान सेना और पाक रेंजर्स ने खाली देखकर इस जमीन पर कब्जा कर लिया, पता चलने पर 3 आरएसी तथा 13 ग्रेनेडियर के जांबाज जवानों ने मिलकर उस समय आरएसी के कम्पनी कमांडर श्याम सुंदर सिंह राठौर के नेतृत्व में हमला किया। भीषण युद्ध में पाकिस्तानी सैनिक भाग खड़े हुए। सन् 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में 12 वीं वाहिनी बीएसएफ तथा 13 ग्रेनेडियर ने मिलकर पाक पोस्ट रनिहाल पर हमला करके उसे अपने कब्जे में लिया था। पाक पोस्ट रनिहाल का भी सामरिक दृष्टि से काफी महत्व है क्योंकि रनिहाल एवं सांचू के अलावा पूरे 130 किलोमीटर के इलाके में कहीं भी मीठा पानी उपलब्ध नहीं है। 

Popular posts
दुबई के शारजहां में समुद्र के किनारे चोखी ढाणी रिसोर्ट में लगेगी पूर्व महाराजा गंगासिंह की प्रतिमा
Image
रोडवेडकर्मियों ने जयपुर में 5 अक्टूबर को जयपुर में महारैली करने का लिया फैसला!
Image
राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय के चुनाव जयपुर में सम्पन्न, बीकानेर के शिक्षक नेता रवि आचार्य निर्विरोध अतिरिक्त महामंत्री निर्वाचित
Image
श्राद्ध से जुड़ी हर वो बात जिसे आपको जानना चाहिए, श्राद्ध पक्ष 06 अक्टूबर तक चलेगा : "गुरु" डॉ. नरोत्तम पुजारी-"गुरु"धाम सालासर
Image
प्रिंसीपल डॉ. जी.पी.सिंह, एडी डॉ. राकेश हर्ष निजी खर्च से एक हजार व्यक्तियों को कराएंगे भोजन : बीकानेर सबसे बड़ा केम्पस केंद्र डूंगर कॉलेज !
Image