उत्तर पश्चिम रेलवे के इतिहास में अब तक की सर्वाधिक लोडिंग : माल लदान में 120 प्रतिशत एवं औसत गति में 14.76 प्रतिशत अधिक वृद्धि दर प्राप्त की





जयपुर, 03 जून (सीके न्यूज/छोटीकाशी)। कोविड महामारी से उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद उत्तर पश्चिम रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में मई माह तक 4.29 मिलियन टन माल लोड करके उत्तर पश्चिम रेलवे के इतिहास में अब तक की सर्वाधिक लोडिंग की है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर सीमेंट, क्लिंकर, खाद्यान्न, पेट्रोलियम, कन्टेनर सहित अन्य प्रमुख कमोडिटी का परिवहन किया जाता है। उत्तर पश्चिम रेलवे के उपमहाप्रबन्धक/मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2021-22 में मई माह तक 4.29 मिलियन टन का प्रारंभिक लदान हासिल किया है, जो 2020-21 की इसी अवधि में प्राप्त 1.9 मीट्रिक टन से 119.79 प्रतिशत अधिक है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2020-21 में अजमेर मंडल पर 5.92 मिलियन टन, बीकानेर मंडल पर 3.47 मिलियन टन, जयपुर मंडल पर 8.16 मिलियन टन व जोधपुर मण्डल पर 4.69 मिलियन टन माल लोंडिग की गई। रेलवे बोर्ड द्वारा उत्तर पश्चिम रेलवे के विगत वर्ष के माल लदान के प्रदर्शन को देखते हुये इस वर्ष अधिक लदान का लक्ष्य प्रदान किया है। उल्लेखनीय है कि उत्तर पश्चिम रेलवे ने वर्ष 2020-21 में 22.24 मिलियन टन माल लदान किया तथा इस वित्तीय वर्ष में रेलवे बोर्ड द्वारा 26.50 मिलियन टन का लक्ष्य प्रदान किया है। उत्तर पश्चिम रेलवे ने मालगाडिय़ों की मई माह तक 47.25 किमी प्रति घंटे की औसत गति प्राप्त की है, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में हासिल की गई 41.17 किमी प्रति घंटे की औसत गति से 14.76 प्रतिशत अधिक है। रेलवे का प्रयास है कि मालगाडिय़ों की औसत गति को बढाकर तीव्र गति से माल परिवहन को गतंव्य तक पहुंचाया जाये। लेफ्टिनेंट शशि किरण ने बताया कि उत्तर पश्चिम रेलवे कि यह उपलब्धि महाप्रबन्धक आनन्द प्रकाश के कुशल निर्देशन एवं प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबन्धक रवीन्द्र गोयल के मार्गदर्शन से सम्भव हो पाई है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर लदान आय बढ़ाने के लिए नवीन प्रयासों के तहत खेमली,  बांगड़ ग्राम, अनूपगढ़, अलवर, गोटन, कनकपुरा, थेयात हमीरा, भगत की कोठी, गोटन स्टेशनों पर नई मदों की लोडिंग प्रारंभ की गई है। साथ ही देबारी (उदयपुर) में औद्योगिक वाटर सप्लाई के दो रेक प्रतिदिन तथा मेड़ता सिटी में 2 स्टेशनों के मध्य रेल खंड पर क्लिंकर की लोडिंग की गई है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर माल लदान को आकर्षित करने के लिए नए माल लदान केंद्र उमरा (खाद लदान), नाथद्वारा, दोराई एवं सतरोड़ (कंटेनर लदान) खाजवाना (चाइना क्ले लदान) तथा बडवासी (लाइन स्टोन लदान) खोले गए हैं। इसके अतिरिक्त मैसर्स अंबुजा सीमेंट लिमिटेड की रास अजमेर तथा मैसर्स वंडर सीमेंट लिमिटेड की मोहनबाडी- बीकानेर रेल साइडिंग का कार्य प्रगति पर है।

Popular posts
पीएम मोदी के जन्मदिन पर रांका ने 200 मंदिरों में चढ़ाया प्रसाद, लगातार 20 दिन करेंगे सेवा व समर्पण कार्य
Image
रामेश रत्नम का भूमि पूजन शिखर चंद सुराणा के कर कमलों से हुआ
Image
डूंगर काॅलेज में प्रख्यात शिक्षाविद् एवं रसायनज्ञ प्रो. रविन्द्र कुलश्रेष्ठ का सम्मान, पुस्तक आध्यात्मिक अंकुर नाम पुस्तक का भी वितरण
Image
बीकानेर बीएसएफ में अध्यक्षा श्रीमती अंबिका राठौड़ की अगुवाई में हर्षोल्लास से मनाया गया बावा स्थापना दिवस
Image
पूर्व कलेक्टर और आज के मुख्य सचिव निरंजन आर्य से बीकानेर को 'महानगरों से कनेक्टिविटी' कराने की मांग
Image