बिना धुएं का उद्योग है पर्यटन, पर्यटकों के लिए बीकानेर बने आकर्षण का केन्द्र : मंत्री डॉ. कल्ला





बीकानेर, 25 जनवरी (सीके मीडिया/छोटीकाशी)। शहर के परकोटे पर स्थित दरवाजे तथा बीकाजी की टेकरी बीकानेर की समृद्ध ऐतिहासिक स्थापत्य विरासत की बानगी है। बीकाजी की टेकरी कौमी एकता के प्रतीक और शहर के स्थापना स्थल की अनुभूति के रूप में पर्यटकों के बीच खासा लोकप्रिय होने की संभावना रखता है। इसी भावना के साथ बीकाजी की टेकरी और इन ऐतिहासिक दरवाजों का जीर्णोद्धार किया जाएगा। पुरातत्व विभाग मंत्री डॉ बी डी कल्ला ने सोमवार को बताया कि पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग द्वारा बीकाजी की टेकरी के पुनरूद्वार कार्य पर 1 करोड़ और पांच दरवाजों गोगागेट, जस्सूसर गेट, नत्थूसर गेट, शीतला गेट और कोटगेट की मरम्मत व सौन्दर्यकरण कार्य पर 50 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई है। मंत्री डॉ बी डी कल्ला ने बीकानेर के 5 ऐतिहासिक दरवाजों और बीकाजी की टेकरी की मरम्मत व पुनरुद्धार, सौन्दर्यकरण कार्य का शिलान्यास किया। इस अवसर पर डॉ कल्ला ने कहा कि पर्यटन बिना धुएं का उद्योग है जो संस्कृतियों के संवर्धन के साथ आर्थिक विकास का मार्ग भी प्रशस्त करता है। डॉ कल्ला ने कहा कि शहर के विकास के साथ.साथ परकोटे पर स्थित सभी मुख्य दरवाजों को त्रिपोलिया स्वरूप दिया गया। पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के द्वारा अब इन दरवाजों के सौंदर्यकरण का काम शीघ्र ही प्रारम्भ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ये दरवाजे अपनी मौलिकता के चलते शहर की पहचान बनेए इस दिशा में हमें प्रयास करने होंगे। सौंदर्यकरण कार्य के दौरान सभी दरवाजों पर आकर्षक छतरियां बनें और इनका मूल स्वरूप भी बना रहे, यह सुनिश्चित किया जाएगा। डॉ कल्ला ने कहा कि विकास के साथ अपनी स्थापत्य विरासत के संधारण की जिम्मेदारी हम सब की है। शहर को स्वच्छ बनाए रखने की अपील करते हुए डॉ कल्ला ने सभी नगर वासियों से कचरापात्र का इस्तेमाल करने की बात कही। 


बीकाजी का पैनोरमा बने

पीएचईडी मंत्री ने कहा कि बीकाजी का पैनोरमा बनाए जाने पर भी विचार होए इस दिशा में पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग अनुसंधान करवाएं और इसकी संभावना तलाश करें। इस अवसर पर पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के निदेशक प्रकाश शर्मा ने बताया कि परकोटे के पांचों दरवाजों के मूल स्वरूप को सुरक्षित रखते हुए इनकी मरम्मत व सौन्दर्यकरण का काम करवाया जाएगा। बीकाजी की टेकरी के साथ यहां के लोगों की भावनाएं जुड़ी है इसके मद्देनजर इस स्थल का सौन्दर्यकरण इस प्रकार होगा कि इसके मूल स्थापत्य का वैभव लौटाया जा सके और पर्यटकों के बीच यह लोकप्रिय हो। इस विरासत को संधारित करने में जन सहयोग की अपेक्षा रहेगी। इस अवसर पर  हीरालाल हर्षए नगर विकास न्यास के पूर्व अध्यक्ष मकसूदए नंदलाल आचार्य सहित विभिन्न गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

Popular posts
जैसा पिते है पाणी वैसी होती है वाणी : महन्त विमरसानंद जी महाराज
Image
समाज एक परिवार, कड़ी से कड़ी जोडऩे की जरुरत : पंकज जोशी / अंतर्राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ द्वारा ब्राह्मण समाज की 21 विभूतियों का प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित
Image
दो दिवसीय बैंकों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल 15 मार्च से, 26 को बीकानेर में धरना एवं प्रदर्शन
Image
बीकानेर आईजी प्रफुल्ल कुमार व एसपी प्रीति चंद्रा की प्रेस-कांफ्रेंस : बैंक और डाकघर लूट की वारदातों का पुलिस ने किया पर्दाफाश
Image
जल संरक्षण के महत्व, उपयोगिता और जागरुकता के लिए पोस्टर प्रतियोगिता
Image